VISUAL ARTS, POETRY, COMMUNITY ARTS, MEDIA & ADVERTISING
"My art is my search for the moments beyond the ones of self knowledge. It is the rhythmic fantasy; a restless streak which looks for its own fulfillment! A stillness that moves within! An intense search for my origin and ultimate identity". - Meena

Saturday, 21 November 2015

13 नवम्बर 2015 की शाम दिल्ली के ललित होटल के 'आर्ट जंक्शन' में मीना चोपड़ा के कविता-संग्रह 'सूरज का सूरज अब मेरा नहीं है' का लोकार्पण हुआ।

13 नवम्बर 2015 की शाम दिल्ली के ललित होटल के 'आर्ट जंक्शन' में मीना चोपड़ा के कविता-संग्रह 'सूरज का सूरज अब मेरा नहीं है' का लोकार्पण हुआ।

Posted by सुबह का सूरज अब मेरा नहीं है: कविता संकलन - मीना चोपड़ा on Wednesday, November 18, 2015


For my poetry kindly Visit: English: http://ignitedlines.blogspot.com Hindi: http://ignitedlines.blogspot.com/ website: http://meenachopra17.wix.com/meena-chopra-artist
Post a Comment
Related Posts with Thumbnails

My links at facebook

Twitter

    follow me on Twitter

    Popular Posts